स्कूल भेजते समय अभिभावकों को बतानी होगी बच्चों की तबीयत

बरेली : मंगलवार से खुल रहे जूनियर हाईस्कूलों में विद्यार्थियों की कोरोना से सुरक्षा के लिए जिलाधिकारी ने व्यापक दिशानिर्देश जारी किए हैं। अभिभावकों को भी अपनी सेहत की जानकारी स्कूलों को देनी होगी। यानी विद्यार्थियों के माता-पिता और अभिभावकों को स्कूलों को यह बताना होगा कि उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई दिक्कत तो नहीं है। राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय यात्रा से संबंधित स्वघोषणा पत्र भी देना होगा।

शासन ने 23 अगस्त से सभी जूनियर हाईस्कूलों में कक्षा छह से आठ तक के विद्यार्थियों की कक्षाएं संचालित करने के निर्देश दिए थे। 21 अगस्त को पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन के चलते 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है। लिहाजा, अब कक्षाएं 24 अगस्त से शुरू होंगी। बरेली में कोरोना संक्रमण के मामले बहुत कम हो गए हैं, लेकिन अभी थमे नहीं हैं। जिलाधिकारी नितीश कुमार ने सभी स्कूलों को कोरोना की रोकथाम और बचाव के लिए व्यापक दिशानिर्देश जारी किए हैं। ये 12 बिंदुओं पर आधारित हैं। इनमें स्कूल परिसर की साफ-सफाई, सैनिटाइजेशन, हाथ धोने की व्यवस्था के निर्देश दिए गए हैं।

निगरानी समितियों से संपर्क कर स्कूल प्रधानाध्यापक या प्रबंध समिति थर्मल स्कैनर, ऑक्सीमीटर की व्यवस्था करेंगे। स्कूल वैन को प्रतिदिन दो बार सैनिटाइज करने, स्वास्थ्य विभाग से संपर्क कर चिकित्सा सेवा सुनिश्चित करने, स्कूल के शैक्षिक, शिक्षणेत्तर, चतुर्थ श्रेणी, रसोइया आदि को शत प्रतिशत प्रतिरक्षित कराने समेत स्कूल परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग, बच्चों के बीच छह फुट की दूरी सुनिश्चित करने को कहा गया है।

कक्षा में समारोह के आयोजनों पर प्रतिबंध

वह कार्यक्रम या समारोह, जिसमें कोविड प्रोटोकॉल का पालन न हो सके, उस पर रोक लगाई गई है। खाली मैदान में अगर जगह न हो तो प्रार्थना सभा कक्षाओं में ही कराने, नए बच्चों के एडमिशन के लिए ही अभिभावक स्कूल या बच्चे की कक्षा तक जा सकते हैं। प्रतिदिन उन्हें स्कूल के भीतर प्रवेश देने पर रोक लगाने के निर्देश हैं। गोल घेरे बनाकर दो गज की दूरी के नियम का पालन कराना होगा।

अभिभावकों से सहमति लेना अनिवार्य

आदेश के तहत स्कूल आने वाले प्रत्येक बच्चे से उनके माता-पिता या अभिभावक से सहमति पत्र लेना जरूरी है। विद्यालय के शिक्षकों और विद्यार्थियों की सेहत की प्रतिदिन जानकारी ली जाएगी। जो बच्चे ऑनलाइन पढाई करना चाहते हैं, उनके लिए ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने के निर्देश हैं। क्षेत्र में गठित निगरानी समितियों को स्कूलों से समन्वय करने के निर्देश दिए गए हैं। कोविड से संबंधित हेल्पलाइन नंबर स्कूल परिसर में चस्पा किए जाएंगे।

संक्रमित मिलने पर तत्काल आइसोलेशन

तमाम एहतियात के बावजूद अगर कोई शिक्षक, छात्र या कर्मचारी संक्रमित पाया जाता है तो तत्काल उसे आइसोलेट किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की मदद से उसके संपर्क में आने वालों को ट्रैक, ट्रेस किया जाएगा ताकि संक्रमण के फैलाव की कोई आशंका न रहे। किसी विद्यार्थी या कर्मचारी की ओर से तबीयत खराब होने की जानकारी मिलने पर उसे घर पर ही रहने के लिए नियमों को लचीला बनाने को कहा गया है।

विद्यार्थियों के लिए नियम

– मास्क लगाकर ही स्कूल परिसर में प्रवेश करें।
– एक-दूसरे के मास्क का प्रयोग न करें।
– कान, नाक, मुंह, आंख आदि छूने से बचें।
– परिसर में कहीं भी थूकने से बचें।
– तबीयत खराब होने की तत्काल जानकारी दें।
– कॉपी, किताब, पेन, टिफिन साझा न करें।
– बाहरी वेंडर से खाद्य सामग्री न खरीदें।
– बिना मास्क स्कूल वाहन में न बैठें।

स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से अनुपालन कराने के लिए दिशनिर्देश दिए गए हैं। जो बच्चे ऑफलाइन नहीं पढ़ना चाहते, उन्हें ऑनलाइन पढ़ाने की व्यवस्था स्कूल करेंगे। – नितीश कुमार, डीएम

23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश की वजह से अब 24 अगस्त से कक्षाएं शुरू होंगी। जिलाधिकारी का आदेश सभी स्कूलों को अग्रेषित कर दिया गया है। – विनय कुमार, बीएसए

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: