संतान प्राप्ति के लिए दशरथ महाराज ने यहाँ किया था जग्य : काफी लोगो की हुई मन्नत पूरी

सृंगी रिषिहि बसिष्ठ बोलावा। पुत्रकाम सुभ जग्य करावा॥ भगति सहित मुनि आहुति दीन्हें। प्रगटे अगिनि चरू कर लीन्हें॥

आज कल की भाग दोड़ भारी जिन्दगी में लोगो को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है . जिससे उनकी जिंदगी में काफी उतर चाडव भी आते है .

आज हम बतने जा रहे है एक ऐसा ही किस्सा जिसका हर महिला और पुरुष को काफी उत्सह रहा है की दम्पति को संतान की प्राप्ति हो उसके लिए दोनों लोग काफी भाग दोड करते  है और काफी इस अस्पताल तो कभी उस अस्पताल लेकिन आखिर में सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है . और दम्पत्री थक हार कर टूट जाते है . जिसमे शादी तक टूटने की नुबत अ जाती है . परिवार का इतना दवाब होता है . की आखिरी में दोनों परिवार के संबंधो में खटास आ जाती है .

दशरथ जी ने भगवान राम को पाने के लिए किआ था जग्य  

मनोरमा नदी के तट पर स्थित मखौड़ा धाम में अयोध्या के महाराजा दशरथ ने पुत्र प्राप्त की कामना से सिद्ध योगी श्रृंगी ऋषि के सानिध्य में पुत्रकामेष्टि यज्ञ का आयोजन किया था। जिसके परिणाम स्वरूप यज्ञ देवता ने प्रकट होकर उन्हें पायस प्रदान कर तीनों रानियों को देने की बात कही थी। जिसके बाद महाराजा दशरथ के यहां भगवान श्री राम, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न जैसे प्रतापी पुत्रों का अवतरण हुआ था।

आप भी जाएं और कोशिश करें 

मखौडा धाम बस्ती जिले में हर्रैया तहसील के सबसे प्राचीन स्थानों में से एक है  ऐसा कहा जाता है कि दशरथ और कौशल्या की बेटी जिनका नाम शांता है, जो ऋषिश्रिंग की पत्नी थीं। जैसा कि अग्नि के निकट यज्ञ के निष्कर्ष, यज्ञकुंडा से बाहर खीर का वर्तन निकला और ऋषिश्रिंग ने दशरथ को खीर का  बर्तन दिया, जिससे वह उसे अपनी रानियों के बीच वितरित करने की सलाह दी। कौशल्या ने आधा खीर खा लिया, सुमित्रा ने इसका एक चौथाई खा लिया। कैकेयी ने कुछ खीर खा लिया और और शेष को सुमित्रा को वापस भेज दिया जिसने खीर को दूसरी बार खाया। इस प्रकार खीर की खपत के बाद राजकुमारों की कल्पना की गई। चूंकि कौशल्या ने राम को जन्म देने वाले सबसे बड़े हिस्से का उपभोग किया था। कैकेयी ने भरत को जन्म दिया। सुमित्रा ने लक्ष्मण और शत्रुघ्न को जन्म दिया। यहाँ पर धार्मिक मंदिर रामरेखा मंदिर भी इस प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान के समीप है,  अमोढ़ा , भारतीय उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में राजा जलीम सिंह के राज्य अमोर (जिसे अमोढ़ा भी कहा जाता है) का स्थान भी हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: