बरेली कॉलेज के अस्थायी कर्मियों की तालाबन्दी आन्दोलन आज दूसरे दिन भी रहा जारी

बरेली (अशोक गुप्ता )- बरेली कॉलेज के अस्थायी कर्मियों की तालाबन्दी आन्दोलन आज दूसरे दिन भी रहा जारी , कॉलेज प्रशासन की बुद्धि शुद्धि को किया हवन , दोहराया कि लिखित समझौता के बाद ही अबकी तालाबन्दी खुलेगी ।। बरेली कॉलेज कर्मचारी कल्याण सेवा समिति के अध्यक्ष जितेंद्र मिश्र के नेतृत्व में अस्थायी कर्मियों ने आज दूसरे दिन भी महाविद्यालय में तालाबन्दी जारी रखी है , कर्मचारी सिफ्टवार लगातार 24 घण्टों धरनास्थल पर मौजूद हैं

अध्यक्ष जितेंद्र मिश्रा ने कहा कि हमारी प्रमुख मांग जून माह में वेतन दिया जाए जो कि लम्बी सेवा अबधि में कभी भी नहीं रुका लेकिन वर्तमान सचिव देवमूर्ति के समय में दो सालों से जून में वेतन से बंचित किया जा रहा है , दूसरी मांग है की नियमानुसार हर वर्ष खुद ही वेतन बढ़े न कि हमे बार बार लड़ना पड़े , आखिर आन्दोलन में भी कठिनाई होती है हम कोई हमेशा आन्दोलन ही करना नहीं चाहते , हमारी मजबूरी है इस बार डटकर और लिखित सम्झौता के बाद ही ताला खोला जाएगा , जिसमें प्रबन्धन के बिना हस्ताक्षर के हम मानेंगे नहीं , देवमूर्ति आन्दोलन समाप्त होने पर कहते हैं हमें तो पता नहीं कि आन्दोलन भी चल रहा है कॉलेज में, ऐसा क्यों ? आखिर सचिव इतनी बड़ी जिम्मेदारी रखकर कॉलेज आकर समाधान क्यों नहीं करना चाहते , जिलाधिकारी अध्यक्ष हैं प्रबन्ध समिति के हम तो उन्हीं से आशा लगाए हैं कि न्यायोचित निर्णय करवाएं अन्यथा इस बार हम ने आर पार की ठानी है । सचिव हरीश मौर्य ने बताया कि हम कर्मचारी बहुत ही मजबूरी में तालाबन्दी किये हैं ।

कर्मचारी नेता रामपाल ने कहा कि जल्दी समाधान न होने पर हम अन्न त्याग आन्दोलन का सन्कल्प भी ले सकते हैं। कर्मियों ने बुद्धि शुद्धि हवन के दौरान भी जमकर कॉलेज प्रबन्धन और कॉलेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की । कर्मचारी नेताओं ने बताया कि हम कर्मचारी कल दोपहर 2 बजे एक समूह में आयकर विभाग जाकर देशव्यापी हड़ताल में भी अपनी भागीदारी देंगे , आज धरनास्थल पर सुनील कुमार चंद्र केश यादव , जयवीर , कुलदीप , राजीव , दीपक , मुकेश शर्मा , सुनील कुमार ,देवबती ,सुनील सिंह ,ज्ञान पाल ,आदि कर्मचारी मौजूद रहे ।।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: