बड़ी खबर : विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने दिया धरना

बरेली (अशोक गुप्ता )- उच्च प्रबन्धन द्वारा तय किये गये अव्यवहारिक/असम्भव लक्ष्यों को पूर्ण करने के लिए अभिन्ताओं से एमओयू पर हस्ताक्षर करने पर भड़के अभियन्ता विरोध स्वरूप पूरे प्रदेश में एमओयू के प्रतियों की होली जलाई गयी ,

मानक के अनुरूप आवश्यक मैन, मनी एवं मैटीरियल उपलब्ध कराने की मांग की , क्षेत्रीय स्तर जिला शहजहापुर, बदायूॅ, पीलीभीत, बरेली के सैकड़ो अभियंताओ तथा अवर अभियंताओ ने बरेली मुख्यालय पर उपस्थित हो कर जताया विरोध । ऊर्जा निगमों में शीर्ष प्रबन्धन स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार के विरोध में जूनियर इंजीनियरों एवं अभियन्ताओं का सविनय अवज्ञा आन्दोलन 12वें दिन भी जारी ,दिनांक 04, 05 एवं 06 अप्रैल को सामूहिक अवकाश बरेली जनपद एवं क्षेत्र से लगभग 6000 प्रार्थना पत्र हुए एकत्र , ऊर्जा निगमों में औद्योगिक शान्ति एवं कार्य का स्वस्थ वातावरण प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं ऊर्जा मंत्री ए के शर्मा से हस्तक्षेप की अपील की उप्र के ऊर्जा निगम प्रबन्धन द्वारा अभियन्ताओं पर अव्यवहारिक एवं असम्भव लक्ष्यों को पूर्ण करने के लिए प्रबन्धन द्वारा एकतरफा तैयार किये गये एमओयू पर हस्ताक्षर करने के लिए बाध्य करने से अभियन्ताओं में रोष एवं आक्रोश और बढ़ गया है जिसके विरोध में विगत 12 दिन से चल रहे मुख्य अभियन्ता कार्यालय,बरेली जनपद पर आहूत सविनय अवज्ञा आन्दोलन में एमओयू की प्रतियों की होली जलाई गयी तथा मांग की गयी कि प्रबन्धन पहले मानक के अनुरूप आवश्यक मैन, मनी एवं मैटीरियल उपलब्ध कराये। केन्द्रीय समिति अभियन्ता संघ के पदााधिकारी इं0 पल्लव मुखर्जी द्वारा प्रबन्धन एवं अधीनस्थ विभागीय कार्मिकों के मध्य ऐसे जबरन एमओयू साइन कराने पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए इसे औचित्यहीन एवं ब्लेक मेलिंग करार देते हुए समस्त मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता तथा अधीषासी अभियंताओं से इसे हस्ताक्षर न करने का निर्देषन दिया। विदित हो कि उप्र के ऊर्जा निगमों में शीर्ष स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार तथा प्रबन्धन द्वारा तानाशाहीपूर्ण ढंग से अन्याय व उत्पीड़न किये जाने के विरोध में विगत 12 दिन से सभी ऊर्जा निगमों के अभियन्ता व संयुक्त संघर्श समिति के समस्त सदस्य सविनय अवज्ञा/असहयोग आन्दोलन कर रहे हैं जिसके तहत आज बरेली जनपद में क्षेत्र के चारो जनपद बरेली, षाहजहापुर, बदायूॅ, पीलीभीत के अभियंताओ एवं अवर अभियंताओ ने पूरे उत्साह से संवाद एवं सम्पर्क कार्यक्रम विरोध सभा में उपस्थिति दर्ज करते हुए प्रण लिया कि समस्याओं के निस्तारण हेतु सार्थक कार्यवाही न हुई तो सविनय अवज्ञा आन्दोलन एवं प्रबन्धन के साथ पूर्ण असहयोग के क्रम में आगामी 04, 05 एवं 06 अप्रैल 2022 को घोषित सामूहिक अवकाश हेतु बाध्य होना पड़ेगा जिसके लिए बड़े पैमाने पर आवेदन एकत्र हो रहे हैं जिन्हें जल्द ही प्रबन्धन को सौंपा जायेगा। सभा के दौरान अवर अभियंता संगठन महासचिव इं0 जयप्रकाष ने प्रदेश में मा0 योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व वाली नई सरकार के ऊर्जा मंत्री मा. ए के शर्मा जी से प्रदेश की जनता को बेहतर उपभोक्ता सेवा एवं सुचारू विद्युत आपूर्ति प्रदान करने हेतु ऊर्जा निगमों में व्याप्त नकारात्मक, दण्डात्मक, उत्पीड़नात्मक कार्य प्रणाली को समाप्त कर मनोबल बढ़ाने वाली प्रोत्साहनात्मक व स्वस्थ कार्य प्रणाली प्रदान करने हेतु सार्थक हस्तक्षेप किये जाने की अपील की है। उन्होनें बताया कि उ0प्र0 के ऊर्जा निगमों के प्रबन्धन द्वारा ईआरपी प्रणाली खरीद एवं बिजली क्रय करने में उच्च स्तर पर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है। ईआरपी प्रणाली तथा स्मार्ट मीटर पर अरबों रूपये खर्च करने के बाद भी विभागीय कार्यप्रणाली अनुरूप नहीं है, ना ही इसका समुचित प्रशिक्षण दिया गया है और न ही इसके क्रियान्वयन हेतु आवश्यक मूलभूत बुनियादी संसाधन-सुविधायें तथा मैन पावर दी गयी है। इसके बावजूद निजी कम्पनी द्वारा कारपोरेशन को दिये गये सॉफ्टवेयर के अनुरूप ही दबाव डालकर अभियन्ताओं को अतार्किक कार्य करने हेतु बाध्य किया जा रहा है। महासचिव द्वारा वर्तमान आन्दोलन को उपभोक्ताओं की लडाई बतायी गयी जिसमें उनके पैसों का बन्दरबाट उच्च प्रबन्धन द्वारा खुलेआम किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: