कोविड-19 के कारण जो भी बच्चे अनाथ हुए हैं,उन बच्चों को पीएमकेएस फॉर चिल्ड्रन योजना का लाभ दिया जाएगा

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग, बरेली

कोविड-19 के कारण जो भी बच्चे अनाथ हुए हैं, उन बच्चों को पीएमकेएस फॉर चिल्ड्रन योजना का लाभ दिया जाएगा

बरेली, 23 अप्रैल। राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग नई दिल्ली की सदस्य, सचिव ने आज प्रदेश के समस्त जनपदों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की।

उन्होंने पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के अंतर्गत कोविड-19 के कारण 10 मार्च 2020 से 11 दिसंबर 2021 तक के मध्य में जो भी बच्चे अनाथ हुए हैं, जिनके माता-पिता दोनों या लीगल गार्जियन या अडॉप्ट पेरेंट्स की मृत्यु हुई है, उन बच्चों को पीएमकेएस फॉर चिल्ड्रन योजना का लाभ दिया जाना था जो उस डेट तक 18 साल के नहीं हुए थे। वीडियो कांफ्रेंस के दौरान एनआईसी में जिलाधिकारी श्री शिवाकान्त द्विवेदी के साथ संबंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग सदस्य, सचिव ने जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग, बाल कल्याण समिति के सदस्य एवं अध्यक्ष आदि से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जनपदों में चयनित बच्चों को शिक्षा स्वास्थ्य एवं बेहतर भविष्य के लिए विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं से लाभान्वित किए जाने के निर्देश दिए। साथ ही वेब पोर्टल पर सभी सूचनाएं समय से अपडेट होती रहे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के पश्चात जिलाधिकारी श्री शिवाकान्त द्विवेदी ने सभी संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की। जिलाधिकारी ने जिला समाज कल्याण अधिकारी को नियमानुसार चयनित बच्चों की छात्रवृत्ति से संबंधित कार्यवाही, स्वास्थ्य विभाग के द्वारा आयुष्मान कार्ड बनाने, जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा वेबसाइट पोर्टल पर सारी गतिविधियां तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को बच्चों के राशन कार्ड बनाने के लिए निर्देश दिए। इसके साथ ही पीएमकेएस योजना में 18 साल की उम्र होने पर बच्चा ₹1000000 की आर्थिक सहायता प्राप्त करेगा जो कि 23 साल में दी जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि नियमित रूप से पीएमकेएस फॉर चिल्ड्रन योजना की प्रगति की समीक्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि जनपद में कोई भी ऐसे बालक बालिका जिनके माता-पिता कोरोना वायरस से मार्च 2020 के बाद उनकी मृत्यु हुई है। वह सहायता के लिए जिलाधिकारी कार्यालय तथा जिला प्रोबेशन कार्यालय में आवेदन करते हुए विभिन्न संचालित योजनाओं का लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: