Bareilly news : मुर्गे चोर को बचाने में लगी भोजीपुरा पुलिस

बरेली (अशोक गुप्ता )- बरेली के भोजीपुरा थाना क्षेत्र के जालिम नगला गांव में पोल्ट्री फार्म से मुर्गे चोरी हो गए थे। पीड़ित ने भोजीपुरा थाने पहुंचकर मुर्गा चोरी की शिकायत की थी।

वही पीड़ित का कहना है कि आरोपियों ने अपनी चोरी को स्वीकार कर लिया था। आरोप है कि पुलिस से सांठगांठ कर आरोपियों ने मुर्गों को गायब कर दिया अब पुलिस समझौता करने का दबाव बना रही है। जालिम नगर गांव के रहने वाले भूपराम पुत्र नत्थू लाल ने एसएसपी ऑफिस पहुंचकर शिकायत की है कि उसके पोल्ट्री फार्म पर मुरारपुर के रहने वाले सद्दाम पुत्र मुन्ने व मुजम्मिल पुत्र बेचे बीती 3 मार्च को शाम के 7:00 बजे के करीब आए थे। पोल्ट्री फार्म पर मौजूद उसके नौकर से भूपराम के बारे में पूछा तो उसने कहा कि वह खाना खाने के लिए घर पर गए हैं। मुजम्मिल और सद्दाम भूपराम के घर पहुंच गए और उन्होंने कहा कि उन्हें उसके टेंपरेचर मशीन की जरूरत है। जिसके बाद भूपराम ने पोल्ट्री फार्म जाकर नौकर से मशीन लेने को कहा। भूपराम से कहने के बाद नौकर ने उन्हें मशीन दे दी। मशीन लेते वक्त नौकर से दोनों ने पूछा कि क्या शाम को भूपराम यहां आएंगे तो नौकर ने इंकार कर दिया। आरोप है कि इसके बाद दोनों लोग रात में उसके पोल्ट्री फार्म से 738 मुर्गे जिनका बजन 15 कुंटल और कीमत 1,80,000 (एक लाख अस्सी हजार ) रुपये के चुरा कर ले गए। भूपराम का कहना है कि जब उन्होंने मुरारपुर जाकर सद्दाम के पोल्ट्री फार्म पर देखा तो उसके मुर्गे वहां पर मौजूद थे। उसने अपने मुर्गों की पहचान कर ली क्योंकि वह शगुना कंपनी के मुर्गे पालता है। जब मुर्गे वापस करने को कहा तो उससे लड़ाई फसाद पर आमादा हो गए। भूपराम का कहना है कि उसने थाने पहुंचकर शिकायत की जिसके बाद पुलिस ने जब छानबीन की तो दोनों ने अपना जुर्म कबूल करते हुए कहा कि उनके पास मुर्गे भूपराम के ही हैं। पुलिस ने दोनों आरोपियों से मुर्गे राय बना करने की हिदायत दी। आरोप है कि पुलिस दोनों को पकड़कर भी लाई और पैसे लेकर छोड़ दिया। पीड़ित का कहना है कि उसने थाने के सात चक्कर लगाए हैं, पुलिस का कहना है कि चुपचाप दोनों लोगों से जाकर समझौता कर लो तुम्हारी कोई कार्रवाई नहीं होगी। पीड़ित भूपराम ने आज एसएसपी ऑफिस पहुंचकर दोनों आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की गुहार लगाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: