समस्तीपुर बिहार में तेरह वर्षीय मासूम की बेरहमी से हत्या

समस्तीपुर:- जिले के कल्‍याणपुर थाना क्षेत्र के बरहेता गांव में एक मासूम को सौतेली मां ने पहले गला दबा कर मार डाला फिर छत से धक्का देकर मामले को उलझाने की कोशिश की। मृतक मासूम आलोक उम्र 13 वर्ष विक्रम कुमार का पुत्र था। थानाध्यक्ष मधुरेन्द्र किशोर ने कहा कि प्रथम दृष्टया मामला हत्या का प्रतीत होता है। वैज्ञानिक जांच व पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामला साफ होगा।

उधर घटना की बाद आलोक के नाना चकमेहसी थाना क्षेत्र के परना निवासी मदन मोहन चौधरी ने हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें सौतेली मां संगम कुमारी तथा पिता विक्रम कुमार को भी आरोपित किया है। उन्होंने बताया कि छत से गिराकर हत्या कर दी गई है। पिता विदेश में रहकर काम करता हैं। आलोक की मां रिमझिम कुमारी ने आठ वर्ष पूर्व पति की प्रताडऩा से तंग आकर जहर खाकर जान दे दी थी। तब आलोक मात्र चार साल का था।

उसकी मौत के बाद विक्रम ने दूसरी शादी दलसिंहसराय शहजादापुर के संगम कुमारी से कर लीया। दूसरी पत्नी से एक छह वर्षीया पुत्री तथा दो वर्ष का पुत्र है। आलोक मुजफ्फरपुर के एक निजी शिक्षण संस्थान में छठी कक्षा में पढ़ता था। गर्मी की छुट्टी में घर आया हुआ था। 27 जून को वह नाना-नानी से मिलने परना गांव गया था। इसी बीच विदेश से पिता का फोन आया, पिता के कहने पर 29 जून को अपने घर बरहेता आ गया था। एक दिन बाद उसे सौतेली मां ने गला दबाकर मार डाला।

बच्चे के गर्दन पर गला दबाने का निशान साफ-साफ दिखाई दे रहा था। उन्होंने बताया कि दामाद विक्रम ने समस्तीपुर-दरभंगा पथ पर मिर्जापुर में दो कमरे का मकान सहित जमीन दूसरी पत्नी के नाम खरीदा था। उसने इसका विरोध किया था। उसी दिन से सौतेली मां की आंखों में आलोक खटक रहा था। अब मामला क्या है, यह तो जांच का विषय है। पुलिस ने लाश को जप्त कर पोस्टमार्टम के सदर अस्पताल भेज दिया और मामले की जांंच में जुट गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.