हज यात्रा और हुई महँगी,आर्थिक स्थिति से कमज़ोर लोगो का जाना हुआ मुश्किल

बरेली हज सेवा समिति के नकटिया कार्यालय पर बैठक पर जताया विरोध।बरेली हज सेवा समिति के अध्यक्ष अताउर्रहमान ने कहा कि केंद्र सरकार हज यात्रियों को राहत देने के वजाए और महँगाई करके हाजियो की यात्रा में दुश्वारी कर रही हैं।समिति के संस्थापक पम्मी खाँ वारसी ने कहा कि इससे पहले भी पिछले साल के मुकाबले हज यात्रा 23 हज़ार रुपये महँगी की गई थी और अब तयशुदा हज यात्रा के बाद एक दम हज यात्रा पर इतने रुपये बढ़ाये गये हैं।

ये पहली मर्तबा हुआ हैं कि हज की राशि फिक्स होने के बाद हाजियो पर महँगाई का एक और बोझ दिया गया हैं।समिति के महासचिव इंजीनियर अनीस अहमद खाँ ने कहा कि इस साल हाजियों पर और पड़ा बोझ बड़े हुए पैसों का अजीजिया में 7150 और ग्रीन में 7750 रुपये और जमा होंगें।रिपीटर हज यात्री को 35,202 से बढ़ाकर 35,821 कर दिये हैंकुर्बानी 8,000 से बढ़ाकर 8,508 करें गये हैं जिसके मुताबिक 508 रुपये बढ़ाये गये हैं।एसबीआई व यूबीआई की बैंक शाखा में 10 जुलाई तक जमा करनी होगी जिन आज़मीने हज ने जोहफ़ा मीक़ात पर टिक किया था उनको 31 रुपये और जमा करने होंगेपरिवहन शुल्क बस किराया में वृद्धि 347.50 रियाल से 391.18 बढ़ाकर 391.18 किये गये जो भारतीय रुपये लगभग 782 रुपये बडे हैं।मेट्रो ट्रेन किराया में वृद्धि 250 रियाल से बढ़ाकर 400 सऊदी रियाल किये गये हैं जो भारतीय रुपये के हिसाब से 2600 रुपये अधिक आज़मीने हज को देना होंगे।मीना टेंट में बिस्तर के शुल्कों में वृद्धि में 5 प्रतिशत वेट टैक्स लगाया गया हैं जो 147 था ।मीडिया प्रभारी साकिब रज़ा खाँ ने कहा कि कल ख़लील हॉयर सेकेंड्री सिविल लाइन में सुबह 10 बजे से अरकान ए हज प्रोग्राम की शुरुआत होगी जिसमें हज यात्रियों का टीकाकरण होगा।प्रभारी नजमुल एसआई खान ने कहा कि शिविर में ये दस्तावेज साथ लेकर आये हज यात्री,ब्लड ग्रुप,कबर नम्बर,पासपोस्ट नम्बर,आधारकार्ड की कॉपी लेकर आना हैं।हज यात्रा पर बढ़ी हुई रकम का विरोध किया।इसमें मुख्य रूप से मोहसिन इरशाद,मिर्ज़ा शादाब बेग,हाजी उवैस खान,हाजी इक़बाल बब्बू,डॉ मेहताब आलम,हाजी रियासत हुसैन,बाबू ठेकेदार,मास्टर बूंदन हुसैन, जमालुद्दीन, नबीउद्दीन,मो इक़बाल अहमद,हाजी ताहिर,मो आरिफ,हाजी जलील अहमद,ऐनुद्दीन प्रधान आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.