बिहार के कृषि मंत्री डॉ0 प्रेम कुमार ने प्रेस वार्ता कर कृषि विभाग के कार्यों से अवगत करवाया

गुरुवार को कृषि विभाग द्वारा सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सूचना भवन में संवाद कक्ष में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को माननीय मंत्री कृषि विभाग बिहार डॉ प्रेम कुमार द्वारा संबोधित किया गया इस अवसर पर थान सचिव कृषि विभाग श्री सुधीर कुमार कृषि निदेशक श्री हिमांशु कुमार राय नितेश उद्यान श्री अरविंदर सिंह विशेष सचिव श्री रविंद्र नाथ राय सहित सिविक विभिन्न योजनाओं के राज्य नोडल पदाधिकारी गण उपस्थित थे।
वही बिहार के कृषि विभाग के मंत्री डॉo प्रेम कुमार ने बताया कि खरीफ़ 2018 में अबतक धान बिचड़ा का आच्छादन 3,40000 हेo लक्ष के विरुद्ध 3,33,790 हेo जो की (58.93%) है।

बीज उत्पादन राज्य में नवीनतम फसल प्रभेदों के बीज के उपायों को बढ़ावा देने हेतु मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार योजना एकीकृत बीज ग्राम योजना बीज ग्राम योजना के साथ-साथ बीज वितरण कार्यक्रम क्रियान्वित किया जा रहा है।

डीजल अनुदान एवं आकस्मिक फसल योजना 2018 में अन्य नीयत मानसून एवं अल्प दृष्टि के मद्देनजर सुखाड़ जैसी स्थिति को देखते हुए किसानों को सिंचाई के लिए ₹50 प्रति लीटर डीजल अनुदान देने का प्रावधान किया गया है किसानों को मिलने वाले अनुदान में विलंब को देखते हुए तीसरे कृषि रोड मैप में ऑनलाइन समयबद्ध अनुदान भुगतान की व्यवस्था की गई है डीजल अनुदान की प्रक्रिया पूर्व के वर्षों में जटिल रहने के कारण समय से अनुदान नहीं मिलने की शिकायत किसानों की रही है डीजल अनुदान के लिए आवेदन देने से लेकर अनुदान वितरण तक की प्रक्रिया को ऑनलाइन किया गया है अब आवेदन करने के 25 दिनों के अंदर ही डीजल अनुदान देने की व्यवस्था की गई है एवं रबी फसलों के एक सिंचाई के लिए ₹50 प्रति लीटर की दर से ₹500 प्रति एकड़ डीजल अनुदान देने का प्रावधान किया गया है या अनुदान धान बिचारा जुट फसल के लिए दो सिंचाई तथा धान की रोपनी करने तथा धान की खड़ी फसल मक्का खरीफ फसलों के अंतर्गत दलहनी तिलहनी मौसमी सब्जी औषधीय एवं सुगंधित पौधों की तीन सिंचाई के लिए अधिकतम 1500 दिया जा रहा है।

राज में वर्ष 2017-19 दो वर्षों में 13.08 लाख मिट्टी नमूनों के संग्रहण एवं विश्लेषण तथा 72.36 लाख निद्रा स्वास्थ्य कार्ड वितरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इनके अतिरिक्त राज्य में गुणवत्तायुक्त मिट्टी जांच को बढ़ावा देने के लिए बिहार कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित तीन कृषि महाविद्यालय एवं साथ कृषि विज्ञान केंद्रों में नए मिट्टी जांच प्रयोगशाला की स्थापना की जा रही है।

वर्ष 2017-18 में बिहार सरकार बीज निगम द्वारा बीज उत्पादक एवम राजकीय प्रक्षेत्रों के धान का 5754 6 क्विंटल रॉ बीजों का उत्पादन प्राप्त हुआ वर्ष 2018 19 में इसके अतिरिक्त 300000 क्विंटल क्षमता वृद्धि हेतु कार्य प्रगति पर है।
कृषि रोड मैप 2017-22 मैं राज्य मैं जैविक खेती हेतु गंगा के तटवर्ती क्षेत्रों एवं राष्ट्रीय राजकीय सड़क के दोनों तरफ पढ़ने वाले गांव का चयन कर जैविक कोरिडोर बनाने का निर्णय लिया गया है। वर्ष 2017-18 में प्रथम चरण में पटना से भागलपुर तक के गंगा के दक्षिणी भाग में पड़ने वाले गांव तथा दनियावा से बिहारशरीफ तक के राजकीय राष्ट्रीय मार्ग के किनारे कुल 9 जिलों में बसे गांव में जैविक कोरिडोर विकसित किया जा रहा है 2018-19 में 19 जिलों यथा कैमूर रोहतास भोजपुर बक्सर पटना नालंदा नवादा गया औरंगाबाद सारन वैशाली समस्तीपुर बेगूसराय खगरिया मुंगेर लखीसराय भागलपुर बांका तथा जमुई में कुल 25000 एकड़ में जैविक कोरिडोर के रूप में जैविक खेती का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

आधुनिक कृषि तकनीकी का प्रचार 2018 में राष्ट्रीय कृषि विकास योजना एवं राष्ट्रीय खाद सुरक्षा मिशन के तहत श्री विधि सिद्धांत प्रत्यक्षण का लक्ष्य 43 47210 चैलेज स्वीट ड्रीम से धान की सीधी बुवाई का प्रत्यक्षण का 201201 पैण्डी ट्रांसप्लांटर से धान की खेती प्रत्यक्षण का लक्ष्य 15900 एक निर्धारित किया गया है। आधुनिक कृषि यंत्रों को बढ़ावा बिहार सरकार द्वारा फसलों के उत्पादन एवं उत्पादकता बढ़ाने हेतु कृषि यांत्रिकरण की महत्वकांक्षी योजना चलाई जा रही है वर्ष 2018-19 के लिए कुल 107 करोड रुपए की लागत से 71 प्रकार के कृषि यंत्रों पर अनुदान का प्रावधान किया गया है। अन्य महत्वपूर्ण कार्य विभाग द्वारा 10 अगस्त 2018 से बीज उर्वरक एवं कीटनाशक के अनुज्ञप्ति हेतु आवेदन मैनुअल नहीं लिया जाएगा 1 सितंबर से बीज 15 सितंबर के कितना सीट तथा 1 अक्टूबर से उर्वरक के लिए अनुज्ञप्ति हेतु आवेदन ऑनलाइन लिया जाएगा।

 

राजेश कुमार के साथ सुनील कुमार की रिपोर्ट पटना (बिहार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.