J&K : आतंकियों के मंसूबे को किया नाकाम, भारत माता के ये 4 सपूत देश पर हो गए कुर्बान

दिल्ली : जम्मू कश्मीर (उत्तरी कश्मीर)के गुरेज (बांडीपोर) सेक्टर में पाकिस्तान ने भारतीय ठिकानों पर गोलाबारी करते हुए आतंकियों की घुसपैठ कराने का प्रयास किया, मगर सेना ने उसे नाकाम कर दिया। इस दौरान हुई मुठभेड़ में चार आतंकी भी मारे गए। इस दौरान एक मेजर समेत चार सैन्यकर्मी शहीद हो गए।

फिलहाल, सीमा पर एहतियातन सैन्य अभियान जारी है। इसमें सेना का पैरा कमांडो दस्ता भी भाग ले रहा है।जानकारी के अनुसार, सोमवार आधी रात के बाद पाकिस्तानी सैनिकों ने संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए अचानक नियंत्रण रेखा (एलओसी) से सटे बकतूर और नैनी इलाके में भारतीय सैन्य व नागरिक ठिकानों पर गोलाबारी शुरू कर दी। पहले तो भारतीय सैनिकों ने संयम बनाए रखा, लेकिन जब पाकिस्तान बाज नहीं आया तो उन्होंने भी जवाबी फायर किया। सुबह तक दोनों तरफ से रुक-रुककर गोलाबारी होती रही।

इस बीच सुबह हालात को भांपते हुए 36 आरआर और नौ ग्रिनेडियर्स के जवानों ने नैनी और बकतूर के इलाकों में घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया। जवान जब गोविंद नाले के पास पहुंचे तो वहां एक जगह छिपे आतंकियों ने उन पर हमला कर दिया। आतंकियों ने जवानों पर ग्रेनेड दागे और स्वचालित हथियारों से फायरिंग कर दी। इसमें सैन्य दल के चार जवान जख्मी हो गए। अन्य जवानों ने तुरंत पोजीशन ली और जवाबी फायर शुरू कर दिया।

इस बीच, निकटवर्ती चौकियों से भी जवानों की अतिरिक्त टुकडि़यां मौके पर पहुंच गई। जवानों ने घायल साथियों को वहां से अस्पताल पहुंचाने का बंदोबस्त करते हुए आतंकियों को मार गिराने का अभियान जारी रखा। सुबह 10.30 बजे तक दो आतंकी मारे गए थे, जबकि स्थानीय सूत्रों ने चार आतंकियों के मारे जाने का दावा किया है। उधर, अस्पताल में डॉक्टरों ने मेजर केपी राणे, राइफलमैन हमीर सिंह, गनर विक्रमजीत सिंह और राइफलमैन मनदीप को शहीद घोषित कर दिया।

आपको बता दें, कि मेजर केपी राणे, हवलदार जे. सिंह, हवलदार विक्रम जीत और राइफलमैन मनदीप इस ऑपरेशन में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए हैं। गौरतलब हों कि पिछले ही दिनों सुरक्षा एजेंसियों ने जम्मू-कश्मीर में किसी बड़ी आतंकी घुसपैठ के होने का अलर्ट जारी किया था। वहीं जम्मू शहर में दिल्ली जाने वाली एक बस से 8 ग्रेनेड के साथ एक आतंकवादी को गिरफ्तार भी किया गया था।

इन्होंने देश पर जान कर दी न्यौछावर

-29 वर्षीय मेजर कोस्तुब प्रकाश (केपी) राणे। वह महाराष्ट्र के जिला ठाणे, पोस्ट आफिस मीरा रोड, गांव बी-9 हीरल सागर, सीतल नगर के रहने वाले थे। उनका जन्म 27 फरवरी, 1989 को हुआ था। वह 36 आरआर से संबंधित थे। मेजर के परिवार में उनकी पत्नी कनिका राणे रह गई हैं।

-25 वर्षीय शहीद गनर विक्रमजीत सिंह हरियाणा के जिला अंबाला, तहसील बरारा, गांव टेपला के रहने वाले थे। उनका जन्म छह मई 1993 को हुआ था। उनके परिवार में उनकी पत्नी हरप्रीत कौर रह गई हैं।

-28 वर्षीय शहीद राइफलमैन हमीर सिंह उत्तराखंड के जिला उत्तरकाशी, तहसील डुंडा, गांव पोखरियाल, पोस्ट आफिस न्यू सहरी के रहने वाले थे। उनका जन्म 15 अगस्त 1990 को हुआ था। उनकी पत्नी का नाम पूजा पोखरियाल है।

-26 वर्षीय शहीद राइफलमैन मंदीप सिंह रावत उत्तराखंड के जिला कोटदवार के अंतर्गत शिवपुर गांव के रहने वाले थे। उनका जन्म 15 जून 1992 को हुआ था। उनके परिवार में अब उनकी मां सुमा देवी रह गई हैं।

 

राजेश कुमार के साथ सोनू मिश्रा की ब्यूरो रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.