दिल्ली मेट्रो दुनिया की दूसरी सबसे महंगी परिवहन सेवा

दिल्ली मेट्रो दुनिया की सभी परिवहन सेवाओं में दूसरी सबसे ज्यादा महंगी मेट्रो सेवा है। सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट्स (सीएसई) द्वारा जारी आंकड़ों से पता चला है कि दिल्ली मेट्रो से यात्रा करने वाला एक मध्यम आय वर्ग का व्यक्ति अपनी आय का 19.5% पैसा यात्रा पर खर्च करता है। जबकि संगठन के विशेषज्ञों ने मानना है कि एक व्यक्ति को परिवहन के किसी भी तरीके पर आय का 15% से ज्यादा खर्च नहीं करना चाहिए।

मंगलवार को, सीएसई के दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में दुनियाभर में शहरी परिवहन प्रणाली की स्थिति को उजागर किया गया। विशेषज्ञों ने कहा कि वियतनाम में हनोई के बाद दिल्ली मेट्रो दुनिया का दूसरा सबसे महंगा परिवहन साधन है। अफॉर्डेबिलिटी को यात्रियों की कुल आय का यात्रा पर खर्च के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है।

यह गणना दिल्ली मेट्रो के लिए चौथी किराया निर्धारण समिति (एफएफसी) की रिपोर्ट पर आधारित है, जो दिखाती है कि 30% दिल्ली मेट्रो के यात्रियों की मासिक आय 20,000 रुपये के भीतर है। आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के मामले में, यह प्रतिशत हिस्सा उनकी आय का 22% तक बढ़ जाता है।

गौतम पटेल प्रधान सलाहकार (सहयोग) अहमदाबाद और गौरव दुबे सीएसई के प्रोग्राम मैनेजर (स्वच्छ वायु और सतत गतिशीलता) ने कहा कि कोई भी यातायात प्रणाली उनकी सेवाओं के बदल अपने उपयोगकर्ताओं से उनकी कमाई का 15% से अधिक खर्च करवाने वाली नहीं होनी चाहिए। वहीं निम्न आय वर्ग के लोगों के मामले में यह खर्च 10% से अधिक नहीं होना चाहिए।

उदाहरण के लिए, दिल्ली में एक अकुशल मजदूर औसतन 534 रुपये की दैनिक मजदूरी कमाता है और उसकी आय से 80 रुपये (15%) परिवहन पर खर्च करता है। सीएसई की गणना के अनुसार, यदि वह नॉन एसी बस में यात्रा करता है तो अपनी आय का करीब 8% खर्च करेगा, एसी बस में सफर करने पर 14% और दिल्ली मेट्रो में यात्रा करता है तो उसे 22% खर्च करना पड़ता है।expensive transportation service

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.